फिबरोमयलगिया (Fibromyalgia in Hindi)

फिबरोमयलगिया (Fibromyalgia in Hindi) क्या है?

यह एक दीर्घकालिक पुरानी विकार है जिसमें व्यापक रूप से थकान और नींद के मुद्दों के साथ व्यापक musculoskeletal दर्द होता है। यह रोग स्पष्ट रूप से समझा नहीं गया है, लेकिन यह गठिया से जुड़ा हुआ है और यह काफी आम है। यह बीमारी अवसाद जैसी गंभीर समस्या का कारण बन सकती है। पुरुषों के अलावा महिलाओं में रोग फाइब्रोमाल्जिया विकसित होने की संभावना अधिक है। उपचार विभिन्न दवाओं द्वारा किया जा सकता है।

फिबरोमयलगिया (Fibromyalgia in Hindi) क्या है?

यह एक दीर्घकालिक पुरानी विकार है जिसमें व्यापक रूप से थकान और नींद के मुद्दों के साथ व्यापक musculoskeletal दर्द होता है। यह रोग स्पष्ट रूप से समझा नहीं गया है, लेकिन यह गठिया से जुड़ा हुआ है और यह काफी आम है। यह बीमारी अवसाद जैसी गंभीर समस्या का कारण बन सकती है। पुरुषों के अलावा महिलाओं में रोग फाइब्रोमाल्जिया विकसित होने की संभावना अधिक है। उपचार विभिन्न दवाओं द्वारा किया जा सकता है।

फिबरोमयलगिया (Fibromyalgia in Hindi) के लक्षण क्या हैं?

स बीमारी के कई लक्षण हैं जिन्हें आसानी से देखा जा सकता है। इस बीमारी का मुख्य लक्षण कंधे, गर्दन, पीठ और कूल्हों जैसे जोड़ों में दर्द है।
इस बीमारी के सबसे आम लक्षण हैं: -
  • थकान
  • पेट में दर्द।
  • पुरानी सिरदर्द
  • ध्यान केंद्रित करने और ध्यान केंद्रित करने में कठिनाई।
  • अवसाद और चिंता।
  • आंखों, नाक, और मुंह में सूखापन।
  •  

फिबरोमयलगिया (Fibromyalgia in Hindi) के कारण क्या हैं?

विशेषज्ञ अभी भी शोध कर रहे हैं लेकिन फिर भी इस बीमारी का सटीक कारण अभी भी अज्ञात है। विभिन्न अलग-अलग विचार दिए गए हैं लेकिन दिए गए सामान्य कारक और कारण हैं: -
  • जेनेटिक्स एक कारण हो सकता है।
  • संक्रमण आगे फाइब्रोमाल्जिया का कारण बन सकता है।
  • दोहराव की चोटें और नींद की समस्याएं।
  • शारीरिक और भावनात्मक आघात।
  • रासायनिक असंतुलन।
  •  

क्या चीज़ों को फिबरोमयलगिया (Fibromyalgia in Hindi) प्रबंधित करना चाहिए?

बीमारी के प्रबंधन के लिए यहां सबसे आम सुझाव दिए गए हैं: -
  • स्वस्थ भोजन के रूप में आप जो खाते हैं उस पर ध्यान दें, आपके लिए फायदेमंद है।
  • तनाव लेने के रूप में तनाव मुक्त रहें मोटापे और मधुमेह की ओर जाता है। ये कमजोर और दर्दनाक मांसपेशियों के लिए नेतृत्व करते हैं।
  • सभी ट्रिगरिंग कारकों की पहचान करें और उनसे बचें ताकि शरीर में स्थिति होने की कोई संभावना न हो।
  • तनाव तनाव से छुटकारा पाने के लिए वास्तव में फायदेमंद हो सकता है क्योंकि तनाव भी इस बीमारी का कारण है।
  • अपनी ऊर्जा को ध्यान से उपयोग करें ताकि यह शरीर को मांसपेशियों पर बोझ के बिना कायाकल्प रखने में मदद कर सके।
  • अपने दिमाग को व्यस्त रखें ताकि अवसाद (जो फाइब्रोमाल्जिया का लक्षण हो) से बचा जा सके।

क्या चीजें हैं जो फिबरोमयलगिया (Fibromyalgia in Hindi) को प्रबंधित करने से बचें?

यहां कुछ सिफारिशें दी गई हैं जो इस बीमारी के प्रबंधन के लिए विशेषज्ञों की सलाह का पालन करें: -
  • बस चारों ओर बैठो क्योंकि मांसपेशियों को कमजोर बनाता है।
  • काम और रिश्ते के मुद्दों को नजरअंदाज न करें ताकि शरीर पर जोर न दिया जाए।
  • अभ्यास या योग करना बंद न करें क्योंकि यह मांसपेशियों की गतिविधि को कम कर सकता है जिसके लिए नियमित कसरत की आवश्यकता होती है।
  • दवा की खुराक न छोड़ें क्योंकि इससे शरीर को ठीक करने की संभावना कम हो सकती है।
  • शरीर पर अधिक से अधिक होने से बचने के लिए अच्छी तरह से महसूस करते समय अधिक काम न करें जिससे थकान हो सकती है।
  •  

फिबरोमयलगिया (Fibromyalgia in Hindi) के लिए सर्वश्रेष्ठ खाद्य पदार्थ क्या हैं?

बीमारियों से इलाज या रोकथाम में आहार एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इस बीमारी में भोजन के बारे में सबसे आम सिफारिश है:
  • विटामिन बी -12 के साथ भोजन: इस प्रकार का विटामिन पूर्ण कार्बोहाइड्रेट को ग्लूकोज में परिवर्तित करता है जो ऊर्जा के निर्माण के लिए सबसे आवश्यक है। भोजन में काले, कद्दू, सामन, टूना और बादाम शामिल हैं।
  • मैग्नीशियम: अधिकांश पीड़ितों में मैग्नीशियम की कमी होती है और इससे दर्द, थकान और यहां तक ​​कि स्मृति हानि भी होती है। इस प्रकार, काले सेम, पालक, और सूरजमुखी के बीज जैसे खाद्य पदार्थों का उपभोग करना और शामिल करना बहुत महत्वपूर्ण है।
  • ओमेगा -3 फैटी एसिड: इन खाद्य पदार्थों को हमेशा फाइब्रोमाल्जिया के रोगियों को सुझाव दिया जाता है क्योंकि यह दर्द से लड़ता है और सूजन को कम करता है। भोजन में सोयाबीन, फ्लेक्ससीड्स, सैल्मन और अखरोट होते हैं।
  • विटामिन-डी समृद्ध खाद्य पदार्थ: पुरानी दर्द में इस विटामिन के परिणाम की कमी इस प्रकार विटामिन-डी समृद्ध खाद्य पदार्थ मांसपेशियों की वसूली और स्वस्थ हड्डियों को बढ़ावा देता है। मुख्य खाद्य स्रोत मशरूम, सार्डिन और अनाज हैं।
  • लौह: हमारे शरीर में लौह बहुत महत्वपूर्ण है। यह रक्त में ऑक्सीजन के प्रवाह को रोकता है और लोहा की कमी थकान, चक्कर आना, सिरदर्द और सांस की तकलीफ में पड़ता है। महिलाओं की कमी का सामना करने की अधिक संभावना है। प्रमुख लौह खाद्य पदार्थ पालक, ब्रोकोली, जैतून और फलियां हैं।
  •  

फिबरोमयलगिया (Fibromyalgia in Hindi) के लिए सबसे ज्यादा फूड्स क्या हैं?

 

कुछ खाद्य पदार्थ बीमारी के विस्तारक के रूप में कार्य करते हैं। इस प्रकार, उन्हें पूरी तरह से बचें। उनमें से कुछ हैं: -
  • चीनी: बीमारी के इलाज के लिए, जितनी ज्यादा हो सके चीनी को सीमित करें क्योंकि चीनी हमेशा पुरानी पीड़ा का कारण बनती है। शहद के अलावा अन्य वैकल्पिक विकल्प खाएं।
  • कैफीन: रोग फाइब्रोमाल्जिया मस्तिष्क के रसायनों के असंतुलन के निर्माण से जुड़ा हुआ है जो मूड स्विंग को नियंत्रित करता है। यह इस बीमारी में एक ट्रिगर के रूप में कार्य करता है इसलिए उन्हें पूरी तरह से बचें।
  • जंक फूड: जंक फूड हमेशा हानिकारक होता है लेकिन जब कोई व्यक्ति पुरानी पीड़ा से पीड़ित होता है तो यह और अधिक हो जाता है। इस प्रकार, अपने भोजन से सभी जंक फूड को खत्म करें।
  • डेयरी उत्पाद: जब कोई भी व्यक्ति पुरानी दर्द बीमारी से पीड़ित होता है, तो उसे पूरी तरह से सभी डेयरी उत्पादों से बचना चाहिए क्योंकि यह पाचन में कोई मुद्दा बनाता है। इसमें दूध, पनीर, क्रीम और मक्खन शामिल हैं।
  • नाइटशेड सब्जियां: पुरानी पीड़ा पीड़ितों के लिए सभी सब्जियां अच्छी नहीं हैं। इस प्रकार, नाइटशेड veggies जैसे बैंगन, हरी मिर्च, आलू और टमाटर से बचा जाना चाहिए।

फिबरोमयलगिया (Fibromyalgia in Hindi) के लिए दवाएं क्या हैं?

फिबरोमयलगिया (Fibromyalgia in Hindi) को प्रबंधित करने के सुझाव क्या हैं?

यह बीमारी पुरानी पीड़ा से संबंधित है और कई विशेषज्ञों ने इसके बारे में अपनी अलग राय दी है। कुछ सामान्य सुझाव हैं:
  • एक अच्छी रात नींद पाने की कोशिश करो।
  • अपनी सीमाओं को जानना कि आप क्या कर सकते हैं और आप क्या नहीं कर सकते हैं।
  • एक सहायक सामाजिक समूह और नियमित रूप से व्यायाम करें।
  •  

फिबरोमयलगिया (Fibromyalgia in Hindi) के लक्षण क्या हैं?

स बीमारी के कई लक्षण हैं जिन्हें आसानी से देखा जा सकता है। इस बीमारी का मुख्य लक्षण कंधे, गर्दन, पीठ और कूल्हों जैसे जोड़ों में दर्द है।
इस बीमारी के सबसे आम लक्षण हैं: -
  • थकान
  • पेट में दर्द।
  • पुरानी सिरदर्द
  • ध्यान केंद्रित करने और ध्यान केंद्रित करने में कठिनाई।
  • अवसाद और चिंता।
  • आंखों, नाक, और मुंह में सूखापन।
  •  

फिबरोमयलगिया (Fibromyalgia in Hindi) के कारण क्या हैं?

विशेषज्ञ अभी भी शोध कर रहे हैं लेकिन फिर भी इस बीमारी का सटीक कारण अभी भी अज्ञात है। विभिन्न अलग-अलग विचार दिए गए हैं लेकिन दिए गए सामान्य कारक और कारण हैं: -
  • जेनेटिक्स एक कारण हो सकता है।
  • संक्रमण आगे फाइब्रोमाल्जिया का कारण बन सकता है।
  • दोहराव की चोटें और नींद की समस्याएं।
  • शारीरिक और भावनात्मक आघात।
  • रासायनिक असंतुलन।
  •  

क्या चीज़ों को फिबरोमयलगिया (Fibromyalgia in Hindi) प्रबंधित करना चाहिए?

बीमारी के प्रबंधन के लिए यहां सबसे आम सुझाव दिए गए हैं: -
  • स्वस्थ भोजन के रूप में आप जो खाते हैं उस पर ध्यान दें, आपके लिए फायदेमंद है।
  • तनाव लेने के रूप में तनाव मुक्त रहें मोटापे और मधुमेह की ओर जाता है। ये कमजोर और दर्दनाक मांसपेशियों के लिए नेतृत्व करते हैं।
  • सभी ट्रिगरिंग कारकों की पहचान करें और उनसे बचें ताकि शरीर में स्थिति होने की कोई संभावना न हो।
  • तनाव तनाव से छुटकारा पाने के लिए वास्तव में फायदेमंद हो सकता है क्योंकि तनाव भी इस बीमारी का कारण है।
  • अपनी ऊर्जा को ध्यान से उपयोग करें ताकि यह शरीर को मांसपेशियों पर बोझ के बिना कायाकल्प रखने में मदद कर सके।
  • अपने दिमाग को व्यस्त रखें ताकि अवसाद (जो फाइब्रोमाल्जिया का लक्षण हो) से बचा जा सके।

क्या चीजें हैं जो फिबरोमयलगिया (Fibromyalgia in Hindi) को प्रबंधित करने से बचें?

यहां कुछ सिफारिशें दी गई हैं जो इस बीमारी के प्रबंधन के लिए विशेषज्ञों की सलाह का पालन करें: -
  • बस चारों ओर बैठो क्योंकि मांसपेशियों को कमजोर बनाता है।
  • काम और रिश्ते के मुद्दों को नजरअंदाज न करें ताकि शरीर पर जोर न दिया जाए।
  • अभ्यास या योग करना बंद न करें क्योंकि यह मांसपेशियों की गतिविधि को कम कर सकता है जिसके लिए नियमित कसरत की आवश्यकता होती है।
  • दवा की खुराक न छोड़ें क्योंकि इससे शरीर को ठीक करने की संभावना कम हो सकती है।
  • शरीर पर अधिक से अधिक होने से बचने के लिए अच्छी तरह से महसूस करते समय अधिक काम न करें जिससे थकान हो सकती है।
  •  

फिबरोमयलगिया (Fibromyalgia in Hindi) के लिए सर्वश्रेष्ठ खाद्य पदार्थ क्या हैं?

बीमारियों से इलाज या रोकथाम में आहार एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इस बीमारी में भोजन के बारे में सबसे आम सिफारिश है:
  • विटामिन बी -12 के साथ भोजन: इस प्रकार का विटामिन पूर्ण कार्बोहाइड्रेट को ग्लूकोज में परिवर्तित करता है जो ऊर्जा के निर्माण के लिए सबसे आवश्यक है। भोजन में काले, कद्दू, सामन, टूना और बादाम शामिल हैं।
  • मैग्नीशियम: अधिकांश पीड़ितों में मैग्नीशियम की कमी होती है और इससे दर्द, थकान और यहां तक ​​कि स्मृति हानि भी होती है। इस प्रकार, काले सेम, पालक, और सूरजमुखी के बीज जैसे खाद्य पदार्थों का उपभोग करना और शामिल करना बहुत महत्वपूर्ण है।
  • ओमेगा -3 फैटी एसिड: इन खाद्य पदार्थों को हमेशा फाइब्रोमाल्जिया के रोगियों को सुझाव दिया जाता है क्योंकि यह दर्द से लड़ता है और सूजन को कम करता है। भोजन में सोयाबीन, फ्लेक्ससीड्स, सैल्मन और अखरोट होते हैं।
  • विटामिन-डी समृद्ध खाद्य पदार्थ: पुरानी दर्द में इस विटामिन के परिणाम की कमी इस प्रकार विटामिन-डी समृद्ध खाद्य पदार्थ मांसपेशियों की वसूली और स्वस्थ हड्डियों को बढ़ावा देता है। मुख्य खाद्य स्रोत मशरूम, सार्डिन और अनाज हैं।
  • लौह: हमारे शरीर में लौह बहुत महत्वपूर्ण है। यह रक्त में ऑक्सीजन के प्रवाह को रोकता है और लोहा की कमी थकान, चक्कर आना, सिरदर्द और सांस की तकलीफ में पड़ता है। महिलाओं की कमी का सामना करने की अधिक संभावना है। प्रमुख लौह खाद्य पदार्थ पालक, ब्रोकोली, जैतून और फलियां हैं।
  •  

फिबरोमयलगिया (Fibromyalgia in Hindi) के लिए सबसे ज्यादा फूड्स क्या हैं?

 

कुछ खाद्य पदार्थ बीमारी के विस्तारक के रूप में कार्य करते हैं। इस प्रकार, उन्हें पूरी तरह से बचें। उनमें से कुछ हैं: -
  • चीनी: बीमारी के इलाज के लिए, जितनी ज्यादा हो सके चीनी को सीमित करें क्योंकि चीनी हमेशा पुरानी पीड़ा का कारण बनती है। शहद के अलावा अन्य वैकल्पिक विकल्प खाएं।
  • कैफीन: रोग फाइब्रोमाल्जिया मस्तिष्क के रसायनों के असंतुलन के निर्माण से जुड़ा हुआ है जो मूड स्विंग को नियंत्रित करता है। यह इस बीमारी में एक ट्रिगर के रूप में कार्य करता है इसलिए उन्हें पूरी तरह से बचें।
  • जंक फूड: जंक फूड हमेशा हानिकारक होता है लेकिन जब कोई व्यक्ति पुरानी पीड़ा से पीड़ित होता है तो यह और अधिक हो जाता है। इस प्रकार, अपने भोजन से सभी जंक फूड को खत्म करें।
  • डेयरी उत्पाद: जब कोई भी व्यक्ति पुरानी दर्द बीमारी से पीड़ित होता है, तो उसे पूरी तरह से सभी डेयरी उत्पादों से बचना चाहिए क्योंकि यह पाचन में कोई मुद्दा बनाता है। इसमें दूध, पनीर, क्रीम और मक्खन शामिल हैं।
  • नाइटशेड सब्जियां: पुरानी पीड़ा पीड़ितों के लिए सभी सब्जियां अच्छी नहीं हैं। इस प्रकार, नाइटशेड veggies जैसे बैंगन, हरी मिर्च, आलू और टमाटर से बचा जाना चाहिए।

फिबरोमयलगिया (Fibromyalgia in Hindi) के लिए दवाएं क्या हैं?

फिबरोमयलगिया (Fibromyalgia in Hindi) को प्रबंधित करने के सुझाव क्या हैं?

यह बीमारी पुरानी पीड़ा से संबंधित है और कई विशेषज्ञों ने इसके बारे में अपनी अलग राय दी है। कुछ सामान्य सुझाव हैं:
  • एक अच्छी रात नींद पाने की कोशिश करो।
  • अपनी सीमाओं को जानना कि आप क्या कर सकते हैं और आप क्या नहीं कर सकते हैं।
  • एक सहायक सामाजिक समूह और नियमित रूप से व्यायाम करें।
  •