मिथाइलसेलूलोज़ (Methylcellulose in Hindi)

ਪੰਜਾਬੀ Eng हिंदी বাংলা

मिथाइलसेलूलोज़ (Methylcellulose in Hindi) का क्या उपयोग है?

मिथाइलसेलूलोज़ रासायनिक रूप से सेलूलोज़ कृत्यों से रेचक के रूप में व्युत्पन्न होता है। यह मल में थोक बढ़ता है जैसे आंतों की गति में वृद्धि होती है। इससे मल में पानी की मात्रा भी बढ़ जाती है जिसके परिणामस्वरूप मल की नरम हो जाती है।

मिथाइलसेलूलोज़ (Methylcellulose in Hindi) के दुष्प्रभाव क्या हैं?

मिथाइलसेलूलोज़ आमतौर पर सुरक्षित होता है, लेकिन कुछ मामलों में पेट में क्रैम्पिंग हो सकती है। यदि लक्षण लगातार होते हैं तो कृपया एक चिकित्सक से परामर्श लें।

मिथाइलसेलूलोज़ (Methylcellulose in Hindi) के मतभेद क्या हैं?

यदि आपको निम्न स्थितियों में से कोई है तो कृपया अपने डॉक्टर को सूचित करें:

  • दवा मिथाइलसेलूलोज़ या किसी अन्य एलर्जी की ओर अतिसंवेदनशीलता।
  • पथरी
  • पेट / आंतों के अवरोध

मिथाइलसेलूलोज़ (Methylcellulose in Hindi) का क्या उपयोग है?

मिथाइलसेलूलोज़ रासायनिक रूप से सेलूलोज़ कृत्यों से रेचक के रूप में व्युत्पन्न होता है। यह मल में थोक बढ़ता है जैसे आंतों की गति में वृद्धि होती है। इससे मल में पानी की मात्रा भी बढ़ जाती है जिसके परिणामस्वरूप मल की नरम हो जाती है।

मिथाइलसेलूलोज़ (Methylcellulose in Hindi) के दुष्प्रभाव क्या हैं?

मिथाइलसेलूलोज़ आमतौर पर सुरक्षित होता है, लेकिन कुछ मामलों में पेट में क्रैम्पिंग हो सकती है। यदि लक्षण लगातार होते हैं तो कृपया एक चिकित्सक से परामर्श लें।

मिथाइलसेलूलोज़ (Methylcellulose in Hindi) के मतभेद क्या हैं?

यदि आपको निम्न स्थितियों में से कोई है तो कृपया अपने डॉक्टर को सूचित करें:

  • दवा मिथाइलसेलूलोज़ या किसी अन्य एलर्जी की ओर अतिसंवेदनशीलता।
  • पथरी
  • पेट / आंतों के अवरोध