टकोट्राईनोल्स (Tocotrienols in Hindi)

ਪੰਜਾਬੀ Eng हिंदी বাংলা

टकोट्राईनोल्स (Tocotrienols in Hindi) का क्या उपयोग है?

टकोट्राईनोल्स विटामिन ई में पाए जाते हैं और अक्सर चावल की भूसी का तेल और ताड़ के तेल में पाए जाते हैं। वे चार प्रकार केहैं (अल्फा, बीटा, गामा और डेल्टा )। वे व्यापक रूप से पूरक के रूप में उपयोग किये जाते हैं वे:

  • शरीर में कैंसर, स्ट्रोक से संबंधित मस्तिष्क क्षति, नई वसा जमा रोकते हैं ।
  • उच्च कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने और आवश्यक कम घनत्व लिपिड में वृद्धि से लिपिड प्रोफाइल में सुधार करते हैं ।
  • होमोसिस्टीन (एमिनो एसिड जो एडेनोसाइन को बदलता है ),अथेरोस्क्लेरोटिक घावों (धमनी दीवारों में  वसा और कोलेस्ट्रॉल आदि का निर्माण), रक्त शर्करा के स्तर को कम करता है 
  • रक्त प्रवाह (इस्केमिया जो स्ट्रोक की ओर जाता है उसके  प्रतिरोध में मदद करता है ।
  • उपापचयी सिंड्रोम, हृदय की मांसपेशी का काम , और ग्लूकोज और इंसुलिन सहिष्णुता में सुधार करता है ।
  • रक्त चाप को नियंत्रित
  • अल्जाइमर रोग, भरा हुआ धमनियों, पारिवारिक दुःस्वायत्तता (आनुवंशिक विकार), और गुर्दे की विफलता का उपचार करता है ।
  • सूरज से जलने , निशान चंगा, बाल विकास को बढ़ावा देने, उम्र बढ़ने को कम करने का काम करता है 

टकोट्राईनोल्स (Tocotrienols in Hindi) के दुष्प्रभाव क्या हैं?

टकोट्राईनोल्स आमतौर पर सुरक्षित हैं, लेकिन अधिक मात्रा में लेने से  संपर्क से होने वाली जिल्द की सूजन हो सकती है। एक चिकित्सक से परामर्श करें यदि लक्षण लगातार उत्पन हो रहे हैं।

टकोट्राईनोल्स (Tocotrienols in Hindi) के मतभेद क्या हैं?

अगर निम्न स्थितियों में से कोई भी हो तो आप कृपया अपने डॉक्टर को सूचित करें :

  • टकोट्राईनोल्स या किसी अन्य एलर्जी के प्रति अतिसंवेदनशीलता।
  • मधुमेह, कोई भी हाल ही में सर्जरी

टकोट्राईनोल्स (Tocotrienols in Hindi) का क्या उपयोग है?

टकोट्राईनोल्स विटामिन ई में पाए जाते हैं और अक्सर चावल की भूसी का तेल और ताड़ के तेल में पाए जाते हैं। वे चार प्रकार केहैं (अल्फा, बीटा, गामा और डेल्टा )। वे व्यापक रूप से पूरक के रूप में उपयोग किये जाते हैं वे:

  • शरीर में कैंसर, स्ट्रोक से संबंधित मस्तिष्क क्षति, नई वसा जमा रोकते हैं ।
  • उच्च कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने और आवश्यक कम घनत्व लिपिड में वृद्धि से लिपिड प्रोफाइल में सुधार करते हैं ।
  • होमोसिस्टीन (एमिनो एसिड जो एडेनोसाइन को बदलता है ),अथेरोस्क्लेरोटिक घावों (धमनी दीवारों में  वसा और कोलेस्ट्रॉल आदि का निर्माण), रक्त शर्करा के स्तर को कम करता है 
  • रक्त प्रवाह (इस्केमिया जो स्ट्रोक की ओर जाता है उसके  प्रतिरोध में मदद करता है ।
  • उपापचयी सिंड्रोम, हृदय की मांसपेशी का काम , और ग्लूकोज और इंसुलिन सहिष्णुता में सुधार करता है ।
  • रक्त चाप को नियंत्रित
  • अल्जाइमर रोग, भरा हुआ धमनियों, पारिवारिक दुःस्वायत्तता (आनुवंशिक विकार), और गुर्दे की विफलता का उपचार करता है ।
  • सूरज से जलने , निशान चंगा, बाल विकास को बढ़ावा देने, उम्र बढ़ने को कम करने का काम करता है 

टकोट्राईनोल्स (Tocotrienols in Hindi) के दुष्प्रभाव क्या हैं?

टकोट्राईनोल्स आमतौर पर सुरक्षित हैं, लेकिन अधिक मात्रा में लेने से  संपर्क से होने वाली जिल्द की सूजन हो सकती है। एक चिकित्सक से परामर्श करें यदि लक्षण लगातार उत्पन हो रहे हैं।

टकोट्राईनोल्स (Tocotrienols in Hindi) के मतभेद क्या हैं?

अगर निम्न स्थितियों में से कोई भी हो तो आप कृपया अपने डॉक्टर को सूचित करें :

  • टकोट्राईनोल्स या किसी अन्य एलर्जी के प्रति अतिसंवेदनशीलता।
  • मधुमेह, कोई भी हाल ही में सर्जरी