आलो वेरा (Aloe vera in panjabi)

Eng हिंदी বাংলা ਪੰਜਾਬੀ

आलो वेरा (Aloe vera in panjabi) ਦੀ ਵਰਤੋਂ ਕੀ ਹੈ?

मुसब्बर वेरा, जिसे कुमारी या घृत्कुमार भी कहा जाता है, एक प्रसिद्ध भारतीय रेगिस्तान प्रजाति है जिसमें कई औषधीय मूल्य हैं। यह विभिन्न त्वचा देखभाल और स्वास्थ्य देखभाल उत्पादों में व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है। यह:

  • पेट के ट्यूमर, कब्ज, प्लीहा विकार, हेपेटाइटिस, हेपटेमेगाली, बुखार, जला हुआ घाव, फाइब्रॉएड, छोटे ट्यूमर, अस्थमा और पुरानी श्वसन विकारों का इलाज करता है।
  • उबाल हो जाता है, फफोले
  • दृष्टि, ताकत, प्रतिरक्षा, ओव्यूलेशन संभावना में सुधार
  • बालों के झड़ने, मुँहासे, रूसी को रोकता है।
  • त्वचा, उम्र बढ़ने की विलंब, झुर्रियों का पुनर्जन्म।
  • घावों को चंगा, त्वचा की सूखापन रोकता है

आलो वेरा (Aloe vera in panjabi) ਦੇ ਮਾੜੇ ਪ੍ਰਭਾਵ ਕੀ ਹਨ?

घृतकुमारी आमतौर पर सुरक्षित है, लेकिन अगर खुराक से अधिक ले लिया हो तो उस कारण हो सकता है:

  • विरेचन (ढीला मल)

एक चिकित्सक से परामर्श करें यदि लक्षण लगातार रह रहे हैं।

आलो वेरा (Aloe vera in panjabi) ਦੇ ਵਿਚਕਾਰ ਕੀ ਅੰਤਰ ਹਨ?

खुले घावों पर उपयोग के लिए नहीं।

आलो वेरा (Aloe vera in panjabi) ਦੀ ਵਰਤੋਂ ਕੀ ਹੈ?

मुसब्बर वेरा, जिसे कुमारी या घृत्कुमार भी कहा जाता है, एक प्रसिद्ध भारतीय रेगिस्तान प्रजाति है जिसमें कई औषधीय मूल्य हैं। यह विभिन्न त्वचा देखभाल और स्वास्थ्य देखभाल उत्पादों में व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है। यह:

  • पेट के ट्यूमर, कब्ज, प्लीहा विकार, हेपेटाइटिस, हेपटेमेगाली, बुखार, जला हुआ घाव, फाइब्रॉएड, छोटे ट्यूमर, अस्थमा और पुरानी श्वसन विकारों का इलाज करता है।
  • उबाल हो जाता है, फफोले
  • दृष्टि, ताकत, प्रतिरक्षा, ओव्यूलेशन संभावना में सुधार
  • बालों के झड़ने, मुँहासे, रूसी को रोकता है।
  • त्वचा, उम्र बढ़ने की विलंब, झुर्रियों का पुनर्जन्म।
  • घावों को चंगा, त्वचा की सूखापन रोकता है

आलो वेरा (Aloe vera in panjabi) ਦੇ ਮਾੜੇ ਪ੍ਰਭਾਵ ਕੀ ਹਨ?

घृतकुमारी आमतौर पर सुरक्षित है, लेकिन अगर खुराक से अधिक ले लिया हो तो उस कारण हो सकता है:

  • विरेचन (ढीला मल)

एक चिकित्सक से परामर्श करें यदि लक्षण लगातार रह रहे हैं।

आलो वेरा (Aloe vera in panjabi) ਦੇ ਵਿਚਕਾਰ ਕੀ ਅੰਤਰ ਹਨ?

खुले घावों पर उपयोग के लिए नहीं।