लांसोप्राज़ोल (Lansoprazole in panjabi)

Eng हिंदी বাংলা ਪੰਜਾਬੀ

लांसोप्राज़ोल (Lansoprazole in panjabi) ਦੀ ਵਰਤੋਂ ਕੀ ਹੈ?

यह एक प्रकार का प्रोटॉन पंप अवरोधक है जिसका प्रयोग जीईआरडी (गैस्ट्रोसोफेजियल रीफ्लक्स बीमारी) और इरोसिव एसोफैगिटिस (एसोफैगस की सूजन) के उपचार के लिए किया जाता है।

दिल की जलन के लिए भी दिया जाता है।

लांसोप्राज़ोल (Lansoprazole in panjabi) ਦੇ ਮਾੜੇ ਪ੍ਰਭਾਵ ਕੀ ਹਨ?

आम तौर पर कम देखे गए साइड इफेक्ट्स हैं:

  • सांस लेने में कठिनाई
  • छाती में दर्द
  • जलन होना 
  • अनियमित दिल की धड़कन 
  • दस्त
  • बुखार

यदि निम्न में से कोई भी दुष्प्रभाव खराब हो जाता है तो अपने डॉक्टर से परामर्श लें:

  • पेट में दर्द
  • पेट फूलना
  • जी मिचलाना
  • उपरी श्वसन पथ का संक्रमण
  • उल्टी
  • दस्त

लांसोप्राज़ोल (Lansoprazole in panjabi) ਦੇ ਵਿਚਕਾਰ ਕੀ ਅੰਤਰ ਹਨ?

यदि आपको निम्न स्थितियों में से कोई है तो कृपया अपने डॉक्टर को सूचित करें:

  • विटामिन बी 12 की कमी
  • रक्त में कम मैग्नीशियम स्तर
  • जिगर की समस्याएं
  • हड्डी फ्रैक्चर
  • गंभीर दस्त

लांसोप्राज़ोल (Lansoprazole in panjabi) ਦੀ ਵਰਤੋਂ ਕੀ ਹੈ?

यह एक प्रकार का प्रोटॉन पंप अवरोधक है जिसका प्रयोग जीईआरडी (गैस्ट्रोसोफेजियल रीफ्लक्स बीमारी) और इरोसिव एसोफैगिटिस (एसोफैगस की सूजन) के उपचार के लिए किया जाता है।

दिल की जलन के लिए भी दिया जाता है।

लांसोप्राज़ोल (Lansoprazole in panjabi) ਦੇ ਮਾੜੇ ਪ੍ਰਭਾਵ ਕੀ ਹਨ?

आम तौर पर कम देखे गए साइड इफेक्ट्स हैं:

  • सांस लेने में कठिनाई
  • छाती में दर्द
  • जलन होना 
  • अनियमित दिल की धड़कन 
  • दस्त
  • बुखार

यदि निम्न में से कोई भी दुष्प्रभाव खराब हो जाता है तो अपने डॉक्टर से परामर्श लें:

  • पेट में दर्द
  • पेट फूलना
  • जी मिचलाना
  • उपरी श्वसन पथ का संक्रमण
  • उल्टी
  • दस्त

लांसोप्राज़ोल (Lansoprazole in panjabi) ਦੇ ਵਿਚਕਾਰ ਕੀ ਅੰਤਰ ਹਨ?

यदि आपको निम्न स्थितियों में से कोई है तो कृपया अपने डॉक्टर को सूचित करें:

  • विटामिन बी 12 की कमी
  • रक्त में कम मैग्नीशियम स्तर
  • जिगर की समस्याएं
  • हड्डी फ्रैक्चर
  • गंभीर दस्त