टेनओफोविर (Tenofovir in panjabi)

Eng हिंदी বাংলা ਪੰਜਾਬੀ

टेनओफोविर (Tenofovir in panjabi) ਦੀ ਵਰਤੋਂ ਕੀ ਹੈ?

टेनओफोविर क्रोनिक हेपेटाइटिस बी और एचआईवी / एड्स के प्रबंधन के लिए अन्य एंटीवायरल ड्रग्स के साथ प्रयोग किया जाता है।

टेनओफोविर उन लोगों में एचआईवी की रोकथाम के लिए इस्तेमाल किया जाता है, जो संक्रमण के उच्च जोखिम में है.  यह जोखिम को काफी कम करता है। इसके अलावा, एचआईवी पॉजिटिव लोगों में टेनओफोविर एचआईवी पॉजिटिव की प्रगति को कम करके एड्स होने से बचाता है ।

टेनओफोविर (Tenofovir in panjabi) ਦੇ ਮਾੜੇ ਪ੍ਰਭਾਵ ਕੀ ਹਨ?

टेनओफोविर आमतौर पर अच्छी तरह सहन हो जाता है। हालांकि, कुछ मामलों में निम्न साइड इफेक्ट्स हो सकते है:

  • लैक्टिक अम्लरक्तता (रक्त में लैक्टिक एसिड का संचय)। लैक्टिक अम्लरक्तता होने का खतरा महिलाओं और मोटापे से ग्रस्त लोगों में अधिक है।
  • उल्टी, दस्त, उल्टी, थकान, चक्कर आना
  • डिप्रेशन 

टेनओफोविर (Tenofovir in panjabi) ਦੇ ਵਿਚਕਾਰ ਕੀ ਅੰਤਰ ਹਨ?

 नीचे उल्लेख चिकित्सा शर्तों में टेनओफोविर लेने से पहले डॉक्टर के साथ परामर्श करना आवश्यक है।

  • लैक्टिक एसिडोसिस
  • रक्त में फॉस्फेट की कम मात्रा
  • हड्डियों का नरम होना 
  • बढ़ा वसायुक्त यकृत
  • गुर्दे का जवाब दे जाना 

टेनओफोविर (Tenofovir in panjabi) ਦੀ ਵਰਤੋਂ ਕੀ ਹੈ?

टेनओफोविर क्रोनिक हेपेटाइटिस बी और एचआईवी / एड्स के प्रबंधन के लिए अन्य एंटीवायरल ड्रग्स के साथ प्रयोग किया जाता है।

टेनओफोविर उन लोगों में एचआईवी की रोकथाम के लिए इस्तेमाल किया जाता है, जो संक्रमण के उच्च जोखिम में है.  यह जोखिम को काफी कम करता है। इसके अलावा, एचआईवी पॉजिटिव लोगों में टेनओफोविर एचआईवी पॉजिटिव की प्रगति को कम करके एड्स होने से बचाता है ।

टेनओफोविर (Tenofovir in panjabi) ਦੇ ਮਾੜੇ ਪ੍ਰਭਾਵ ਕੀ ਹਨ?

टेनओफोविर आमतौर पर अच्छी तरह सहन हो जाता है। हालांकि, कुछ मामलों में निम्न साइड इफेक्ट्स हो सकते है:

  • लैक्टिक अम्लरक्तता (रक्त में लैक्टिक एसिड का संचय)। लैक्टिक अम्लरक्तता होने का खतरा महिलाओं और मोटापे से ग्रस्त लोगों में अधिक है।
  • उल्टी, दस्त, उल्टी, थकान, चक्कर आना
  • डिप्रेशन 

टेनओफोविर (Tenofovir in panjabi) ਦੇ ਵਿਚਕਾਰ ਕੀ ਅੰਤਰ ਹਨ?

 नीचे उल्लेख चिकित्सा शर्तों में टेनओफोविर लेने से पहले डॉक्टर के साथ परामर्श करना आवश्यक है।

  • लैक्टिक एसिडोसिस
  • रक्त में फॉस्फेट की कम मात्रा
  • हड्डियों का नरम होना 
  • बढ़ा वसायुक्त यकृत
  • गुर्दे का जवाब दे जाना