ज़िंक पायरिथिओन (Zinc pyrithione in panjabi)

Eng हिंदी বাংলা ਪੰਜਾਬੀ

ज़िंक पायरिथिओन (Zinc pyrithione in panjabi) ਦੀ ਵਰਤੋਂ ਕੀ ਹੈ?

यह मुख्य रूप से रूसी में और सेबोर्र्होएइक डर्मेटाइटिस (खोपड़ी की फंगल संक्रमण), खुजली, फ्लाकिंग, स्केलिंग और बालों को  झड़ने से रोकने के लिए  इस्तेमाल किया जाता है । आम तौर पर बालों के झड़ने को रोकने के लिए मिनोक्सीडील के साथ संयोजन में इस्तेमाल किया जाता है 

अन्य उपयोगों में एक्जिमा, दाद, सोरायसिस, टिनिया संक्रमण, ऐटोपिक डर्मेटाइटिस, एथलीट फुट और विटिलिगो (पैच में त्वचा की रंजकता नुकसान) शामिल हैं।

यह फंगल झिल्ली में प्रोटॉन पंप को ब्लाक करता है , जो फंगल कोशिकाओं में इलेक्ट्रोलाइट परिवहन के लिए जिम्मेदार है। 

ज़िंक पायरिथिओन (Zinc pyrithione in panjabi) ਦੇ ਮਾੜੇ ਪ੍ਰਭਾਵ ਕੀ ਹਨ?

जिंक पायरिथिओन के आम दुष्प्रभाव निम्न हैं:

  • गंभीर लाल चकत्ते, पित्ती
  • सांस लेने में कठिनाई, सीने में जकड़न
  • चेहरे अंगों और अन्य एलर्जी। 

ज़िंक पायरिथिओन (Zinc pyrithione in panjabi) ਦੇ ਵਿਚਕਾਰ ਕੀ ਅੰਤਰ ਹਨ?

गर्भावस्था और दवा के लिए अतिसंवेदनशीलता दौरान

ज़िंक पायरिथिओन (Zinc pyrithione in panjabi) ਦੀ ਵਰਤੋਂ ਕੀ ਹੈ?

यह मुख्य रूप से रूसी में और सेबोर्र्होएइक डर्मेटाइटिस (खोपड़ी की फंगल संक्रमण), खुजली, फ्लाकिंग, स्केलिंग और बालों को  झड़ने से रोकने के लिए  इस्तेमाल किया जाता है । आम तौर पर बालों के झड़ने को रोकने के लिए मिनोक्सीडील के साथ संयोजन में इस्तेमाल किया जाता है 

अन्य उपयोगों में एक्जिमा, दाद, सोरायसिस, टिनिया संक्रमण, ऐटोपिक डर्मेटाइटिस, एथलीट फुट और विटिलिगो (पैच में त्वचा की रंजकता नुकसान) शामिल हैं।

यह फंगल झिल्ली में प्रोटॉन पंप को ब्लाक करता है , जो फंगल कोशिकाओं में इलेक्ट्रोलाइट परिवहन के लिए जिम्मेदार है। 

ज़िंक पायरिथिओन (Zinc pyrithione in panjabi) ਦੇ ਮਾੜੇ ਪ੍ਰਭਾਵ ਕੀ ਹਨ?

जिंक पायरिथिओन के आम दुष्प्रभाव निम्न हैं:

  • गंभीर लाल चकत्ते, पित्ती
  • सांस लेने में कठिनाई, सीने में जकड़न
  • चेहरे अंगों और अन्य एलर्जी। 

ज़िंक पायरिथिओन (Zinc pyrithione in panjabi) ਦੇ ਵਿਚਕਾਰ ਕੀ ਅੰਤਰ ਹਨ?

गर्भावस्था और दवा के लिए अतिसंवेदनशीलता दौरान